भगवान श्री जगन्नाथ कि रथ यात्रा को दे दी सुप्रीम कोर्ट ने मंजूरी। - सारी जानकारी हीन्दी और English

Latest

This blog gives you full information of history,news and defence knowledge and other catogaryjust like fashion etc

facebook

Follow

Translate

यह ब्लॉग खोजें

मंगलवार, 23 जून 2020

भगवान श्री जगन्नाथ कि रथ यात्रा को दे दी सुप्रीम कोर्ट ने मंजूरी।

गोवर्धन पीठ , पुरी के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती ने सुप्रीम कोर्ट से आग्रह किया है कि रथ यात्रा पर रोकने के अपने आदेश वह फीर से एक बार विचार करे । उन्होंने कहा कि अदालत के फैसले से करोड़ों भक्तों की भावना को ठेस पहुंचेगी । विश्व हिंदू परिषद ने भी कोर्ट से आग्रह किया है कि वह रथयात्रा पर रोक लगाने के अपने आदेश पर पुनर्विचार करने को कहा है।


  • सुप्रीम कोर्ट ने क्यों दिया था रथ यात्रा को रोकने के आदेश 
एक एनजीओ की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने 18 जून को यात्रा पर रोक लगा दी थी । सुप्रीम कोर्ट पुरी रथयात्रा पर रोक लगाने के अपने आदेश में संशोधन की मांग को लेकर दायर याचिकाओं पर सोमवार को सुनवाई करेगा । शीर्ष कोर्ट ने 18 जून को पुरी और राज्य में अन्य स्थानों पर रथयात्रा पर रोक लगाते हुए कहा था कि कोविड- 19 को देखते हुए इतने बड़े जमावड़े की इजाजत नहीं दी जा सकती । इसके लिए भगवान जगन्नाथ हमें माफ करें । इसके बाद सुप्रीम कोर्ट में इस फैसले पर पुनर्विचार करने के लिए याचिकाएं दायर की गई थी।

आखिर किस तरह रिश्ते खत्म कर रहा है एक माहामारी जानने के लिए क्लिक किजिए।
  • सुप्रीम कोर्ट ने भगवान की रथ यात्रा को दी मंजूरी ।

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को अपना चार दिन पुराना फैसला पलटते हुए यात्रा को मंजूरी दे दी । ओडिशा के पुरी में मंगलवार को भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा निकलेगी । हालांकि , कोर्ट ने साफ किया कि यात्रा का आयोजन सिर्फ पुरी में होगा । साथ ही निर्देश दिया कि केंद्र और ओडिशा सरकार जरूरी स्वास्थ्य सुरक्षा उपाय सुनिश्चित करें । चीफ जस्टिस एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकार मिलकर रथयात्रा निकालेंगी ।सोमवार रात 9 से बुधवार दोपहर बाद 2 बजे तक शहर पूरी तरह बंद रखने की घोषणा की है।इस दौरान सभी दुकानें बंद रहेंगी । कोई पुरी में प्रवेश नहीं कर सकेगा ।कोर्ट ने कहा , एक रथ को 500 से अधिक श्रद्धालु नहीं खींचेंगे , रथ खींचने वाले सभी श्रद्धालु कोरोना निगेटिव होने चाहिए । 
मंदिर प्रबंधन समिति और राज्य सरकार देखें कि स्वास्थ्य से समझौता न हो । इससे पहले केंद्र सरकार ने सोमवार सुबह सुप्रीम कोर्ट से 18 जून के आदेश में बदलाव का अनुरोध करते हुए कहा , सदियों से चली आ रही परंपरा को तोड़ा नहीं जा सकता है । ओडिशा सरकार ने भी अनुमति देने की मांग की थी ।सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने बधाई दी । उन्होंने ट्वीट किया , पीएम नरेंद्र मोदी ने मामले का सकारात्मक हल निकले , इसके लिए तुरंत प्रयास शुरू किए , जिससे हमारी यह महान परंपरा कायम रही ।उल्लेखनीय है कि 10 दिन तक चलने वाले रथ यात्रा उत्सव की शुरुआत 23 जून से हो रही है । 1 जुलाई को ' बहुदा जात्रा ' ( रथयात्रा की वापसी ) शुरू होगी ।


.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

How can I help you

popular post on last month