अमेरिका जारी नहीं करेगा विदेशी छात्रों के लिए वीजा बंद । - सारी जानकारी हीन्दी और English

Latest

This blog gives you full information of history,news and defence knowledge and other catogaryjust like fashion etc

facebook

Follow

Translate

यह ब्लॉग खोजें

बुधवार, 8 जुलाई 2020

अमेरिका जारी नहीं करेगा विदेशी छात्रों के लिए वीजा बंद ।

कोरोना महामारी के चलते अमेरिका ने विदेशी छात्रों को वीजा नहीं देने का ऐलान किया है ।जिन जिन छात्रों की पढ़ाई ऑनलाइन चल रही है उनसे भी जा भी वापस लिया जा सकता है और उन्हें अपने देश वापस ले दीया जाएगा ।

कोरोना महामारी के समय अमेरिका में पढ़ रहे भारतीय छात्रों को वापिस भेजने की तैयारी की जा रही है । यह फैसला ट्रंप प्रशासन ने लिया है ।ट्रंप प्रशासन का कहना है कि जिन विद्यार्थियों के परीक्षा ऑनलाइन शिफ्ट हो गई है उन्हें देश छोड़ना होगा या ऐसे विदेशी छात्र जिनके सेमेस्टर सिर्फ ऑनलाइन हो रहे हैं उन्हें अमेरिका में प्रवेश नहीं दिया जाएगा । अर्थात जिन छात्रों की पढ़ाई ऑनलाइन हो रही है उन्हें वापस घर भेज दिया जाएगा । 

आईसीई ( आव्रजन और सीमा शुल्क प्रवर्तन विभाग )  ने कहा 2020 के सेमेस्टर के लिए जो छात्र स्कूलों में पूरी तरह ऑनलाइन कक्षाएं ले रहे हैं , उन्हें यहां रहकर पूरा कोर्स नहीं कराया जाएगा और उन्हें अमेरिका छोड़ना होगा ।  

विदेश मंत्रालय का साफ तौर पर कहना है कि वह ना तो ऐसे स्कूलों या कार्यक्रमों में पंजीकृत छात्रों के लिए वीजा जारी करेंगे और ना ही अमेरिका सीमा शुल्क व सीमा सुरक्षा विभाग इन छात्रों को देश में आने की मंजूरी देंगे ।
 
हर्षवर्धन भंगला 

इसके अनुसार अमेरिका में रह रहे ऐसे छात्र जिनकी कक्षाएं ऑनलाइन हो रही है उनसे उनका वीजा वापिस लिया जाएगा । 
आईसीसी ( आव्रजन और सीमा शुल्क प्रवर्तन विभाग ) का कहना है कि,अकादमी पाठ्यक्रम में हिस्सा लेने वाले ऐफ-1वीजा धारक आप्रवासी छात्र और वोकेशनल कोर्स करने वाले एम-1वीजा धारकों को ऑनलाइन कक्षाएं चलने की स्थिति में इन्हें अमेरिका में आने की अनुमति नहीं मिलेगी और जो यहां रह रहे हैं उन्हें भी अमेरिका छोड़ना होगा, ऐसा ना करने पर उन्हें साफ तौर पर उन्हें दुष्परिणाम भुगतने की चेतावनी दी है ।

अमेरिका के अधिकारियों ने कहा कि वह भारतीय छात्रों का ख्याल रखेंगे ।

विदेश सचिव हर्षवर्धन भंगला ने वीजा वापस लेने के मुद्दे को मंगलवार को अमेरिका के सचिव डेविड हेल से ऑनलाइन बैठक के दौरान इस मुद्दे को उठाया । सूत्रों के द्वारा कहा जा रहा है कि अमेरिका ने इस संज्ञान को लेते हुए कहा कि वह भारतीय छात्रों के हितों का रखेगा और इस फैसले के प्रभाव को कम करने का प्रयास करेगा ।

 
10 लाख छात्रों में भारत के 2.20 लाख छात्र होंगे प्रभावित अमेरिका में इस फैसले का असर  10 लाख विदेशी छात्रों पर पड़ेगा ।

 इनमें चीन के 3.69 लाख छात्र शामिल हैं , जबकि भारत के 2.20 लाख छात्र और दक्षिण कोरिया के 52 हजार छात्र हैं । इनसे अमेरिकी अर्थव्यवस्था को काफी लाभ होता है । 2018 में विदेशी छात्रों से अमेरिका को 4,470 करोड़ डॉलर की कमाई हुई थी । भारत से 2017 की तुलना में 2018 में 4,157 छात्र बढ़े थे । - 

आसान नहीं होगा छात्रों को उनके देश वापस भेजना ।

इस आदेश के अनुसार उन्हीं छात्रों को वापिस भेजा जाएगा जिनकी कक्षाएं ऑनलाइन चल रही है और उन्हें कॉलेज या यूनिवर्सिटी जाना जरूरी नहीं है यदि कोई विदेशी छात्र इन आदेशों के बाद भी अमेरिका नहीं छोड़ता तो उसे जबरन अमेरिका से बाहर निकाला जाएगा । विशेषज्ञों के मुताबिक यह बहुत  ज्यादा मुश्किल होगा क्योंकि कई देशों में यात्रा प्रतिबंध लागू हैं ।



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

How can I help you

popular post on last month